झाबुआ। गुरूवार को शहर के कैलाश मार्ग स्थित मदरसा निज़ामीया में हजरत सूफी निज़ामुद्दी साहब किबला का उर्स मुबारक 'उर्से निज़ामीय सादगी भरे महौल में मनाया गया। उर्से निज़ामी मनाते हुए मदरसे के बच्चों ने कुरआन ख्वानी कर कुरआन की तिलावत की। जिसके बाद कुल की फातेहा का आयोजन हुआ। फातेहा के बाद दुआ हुई जिसमें मुल्क में अमनो अमान की दुआ की गई।  गुरूवार को कैलाश मार्ग स्थित मदरसा निज़ामीया में मुहिय्ये सुन्ना, ताजुलअसफिया, पीरे तरीकत, वलिए कामिल, हुजूर खतिबुल बराहीन, हजरत अल्लामा, अलहाज, अस्स्शाह, सूफी, मुफ्ती मोहम्मद निजामुद्दीन रजवी, मोहद्दीसे बस्तवी अलैहिर्रहमा का आंठवा उर्से मुबारक बड़े ही खुशनुमा महौल में मनाया गया। इस मौके पर शहर के तमाम मदारिसे अरबिया के तलबा-ए-किराम ने शिरकत की और कुरआन की तिलावत कर खिराजे अकीदत पेश की। इस अवसर पर खलिफए हबीबुल औलमा हजरत अल्लामा मौलाना खुर्शीद एहमद खान निज़ामी साहब ने शजराह ख्वानी पढ़कर बारगाहे खतिबुल बराहीन में खिराजे अकीदत पैश किया। उर्से निज़ामी के मौके पर तमाम हुजूर खतिबुल बराहिन के मुरीदों ने कसीर तादाद में शिरकत की। फातेहा ख्वानी व शजराह ख्वानी के बाद मौलाना खुर्शीद एहमद खान निज़ामी साहब ने मुल्क में अमन व चेन की दुआ फरमाई और इन्ही की दुआ पर प्रोग्राम का इख्तिताम हुआ। इस मौके पर तमाम हाजरीन को तबर्ररूख तकसीम कर उर्से निज़ामी की मुबारक बाद दी गई। इस पुरखुलुस मौके पर हाजी आबिदुल्ला खान, हाजी मोईनुद्दीन शेख, अय्यूब खान, सैयद जाहिद अली, ग्यासुद्दीन शेख, नौशाद निज़ामी, मुजम्मील निज़ामी, जावेश शाह, युसुफ खान, मोहम्मद शेख, फरीद खान, अयाज जशेख, के अलावा बहुत से मुरीदीन मौजूद थे।

कोविड-19 के मद्देनजर मुख्तसर अंदाज में मनाया

गौरतलब है कि मुहिय्ये सुन्ना ताजुलअसफिया पीरे तरीकत वलिए कामिल हुजूर खतिबुल बराहीन हजरत अल्लामा, अलहाज, असशाह, सूफी, मुफ्ती मोहम्मद निजामुद्दीन रजवी, मोहद्दीसे बस्तवी अलैहिर्रहमा का मजारे पाक अगया शरीफ जिला संतकबीर नगर यूपी में है। इनके मजारे मुबारक पर हर साल बहुत बड़े पैमाने पर उर्स का एहतमाम किया जाता है, और लाखों की तादाद में मुरीदीन यहां इकट्ठे होते है। इस वर्ष कोविड-19 के मद्देनजर व मुरीदीन के स्वास्थ्य की चिंता करते हुए सज्जानशीन कानकाहे निज़ामीया हजरत हबीबुर्रहमान साहब किबला ने सभी मुरीदीन से अपने-अपने शहरों में उर्से निज़ामी मनाने के लिए अपील की थी। अगिया शरीफ में हुजूर के मजार पर मकामी लोगों, मुरीदीन व औलमाओं ने मुख्तसर अंदाज में उर्से निज़ामी मनाया। जिसके चलते सभी मुरीदीन ने अपने-अपने शहरों में ही उर्से निज़ामी सदगी भरे अंदाज में मनाया।

बड़ी तादाद में जिले से पहुंचते थे मुरीदीन

वैसे तो हर वर्ष उर्से निज़ामी के मौके पर जिले भर से हजारों मुरीदीन अगिया शरीफ जिला संतकबीर नगर यूपी पहुंच कर हुजूर के मजार पर निज़ामी देकर खिराजे अकिदम पेश करते थे, लेकिन इस वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते ऐसा नहीं हो पाया और तमाम मुरीदीन ने अगिया शरीफ न जाते हुए अपने-अपने शहरों में कोविड-19 की गाइड लाइन का पालन करते हुए मुख्तसर अंदाज में उर्से निज़ामी मनाया।

Jhabua News- 8 वां उर्से निज़ामी सादगी भरे माहौल में मनाया गया,  मुरीदीन ने पेश की गई खिराजे अकीदत


और पड़े
शेयर