हिंदू संगठनों की बड़ी जीत

झाबुआ। देशभर में कोविड-19 अनलॉक की प्रक्रिया के अंतर्गत हर संप्रदाय हर वर्ग को अपने धार्मिक त्योहारों को शासकीय कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए मनाने की अनुमति दी गई है। नगर पालिका झाबुआ द्वारा रावण दहन संबंधित एक विशेष बैठक में बिना नगर के गणमान्य नागरिकों, सामाजिक संगठनों, धार्मिक संगठनों या मीडिया को आमंत्रित किए रावण दहन ना करने का फैसला लिया गया था। युग युगांतर से रावण दहन की परंपरा हिंदू समाज में चली आ रही है एवं इसे खंडित न किए जाने को लेकर नगर के समस्त हिंदू संगठनों ने संयुक्त रूप से नगर पालिका सीएमओ को ज्ञापन के माध्यम से सांकेतिक रूप से रावण दहन करने की मांग रखी। 

         नगर के केवल सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों के प्रमुख व्यक्तियों एवं प्रशासन के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में 51 फीट का रावण ना बनाते हुए सांकेतिक 11 फीट का रावण दहन करने की बात कही गई। नगर पालिका सीएमओ द्वारा समाज की आस्थाओं का सम्मान करते हुए एवं संगठनों की युक्ति संगत मांग को देखते हुए पूर्व में लिया गया रावण दहन न करने का निर्णय वापस लेते हुए सांकेतिक रूप से 11 फीट का रावण केवल प्रमुख प्रतिनिधियों की उपस्थिति में अलग स्थान विशेष पर दहन करने की घोषणा की गई । नगर पालिका सीएमओ द्वारा लिए गए त्वरित एवं जन हितेषी निर्णय से सर्व हिंदू समाज में हर्ष की लहर व्याप्त है एवं सभी संगठनों द्वारा माननीय सीएमओ के निर्णय का स्वागत किया है। इस अवसर पर हिंदू जागरण मंच अध्यक्ष शैलेश बिट्टू सिंगार, बजरंग सेना अध्यक्ष मयूर पवार, विश्व हिंदू परिषद अध्यक्ष हिमांशु त्रिवेदी, राष्ट्रीय हिंदू सेना अध्यक्ष वीरेंद्र राठौर समेत हनुमान टेकरी सेवा समिति, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एवं नगर के समस्त युवा उपस्थित थे।  

Jhabua News- दशहरा पर इस वर्ष 11 फीट का रावण दहन विभिन्न संगठनो के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में होगा


और पड़े
शेयर