रोटरी क्लब संजीवनी द्वारा डाक्टर्स दिवस पर 21 डाक्टरों को किया गया सम्मान

 मानव संस्कृति में डॉक्टर्स को माना जाता है भगवान, - रो. मनोज अरोरा

झाबुआ । मनुष्य के जीवन में एक डॉक्टर की भूमिका को बताने की आवश्यकता नहीं है। हमारी संस्कृति में डॉक्टर को भगवान का दर्जा दिया जाता है और भगवान के महत्व को दर्शाने के लिए हर साल 1 जुलाई को नेशनल डॉक्टर्स डे के रूप में मनाया जाता है। यह खास दिन भारतीय चिकित्सा संघ द्वारा मनाया जाता है। इस दिन प्रख्यात चिकित्सक और बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ बिधान चंद्र रॉय की जयंती और पुण्यतिथि भी है। यह दिन स्वास्थ्य की देखभाल करने वाले कर्मचारियों के अथक प्रयास और मेहनत को मनाने के लिए चिह्नित किया जाता है जो जीवन बचाने के लिए दिन- रात काम करते हैं। दुनिया ने डॉक्टरों को अपने कर्तव्यों से समझौता किए बिना कोविड-19 के प्रकोप के दौरान महामारी का सामना करते हुए सबसे आगे खड़े होकर नेतृत्व किया। उक्त सरगर्भित उदबोधन रोटरी क्लब मेन के असिस्टेंट गवर्नर रो मनोज अरोरा-रोटरी मंडल 3040 ने रोटरी क्लब थांदला द्वारा शुक्रवार को आयोजित डाक्टर्स सम्मान कार्यक्रम के आयोजन के अवसर पर दिया ।
Jhabua news- रोटरी क्लब संजीवनी द्वारा डाक्टर्स दिवस पर 21 डाक्टरों को किया गया सम्मान
     इस अवसर पर क्लब के को’आर्डिनेटर भरत मिस्त्री ने भी रोटरी क्लब समाज सेवा और फेलोशिप रोटरी के बुनियादी स्तम्भ हैं। कोरोना काल मे रोटरी द्वारा पीपीई किट वितरण, मास्क एवं सैनिटाइजर वितरण और गरीबों को निश्शुल्क भोजन उपलब्ध कराया गया है । मानवता के प्रति सदैव अग्रणी रहने वाली सेवाभावी संस्था रोटरी क्लब संजीवनी द्वारा रोटरी गवर्नर रो. जिनेन्द्र जैन के प्रखर मार्गदर्शन में पीडित मानवता के लिये आगामी समय में भी क्लब सतत सेवा कार्य को करकेरोटरी के बोधवाक्य के अनुरूप् साकारता प्रदान करेगा । चिकित्सालय के डा. मनीष दुबे ने रोटरी क्लब की सेवा कार्यो एवं समाज में प्रखर भूमिका की प्रसंशा करते हुए कोरोना काल में डाक्टर्स के कर्तव्यों का जिक्र करते हुए कहा कि डाक्टर भी एक सामान्य इंसान होता है, उसे भी कोरोना जेैसी त्रासदी में सदैव भय बना रहता था, उनके परिवार, वृद्ध माता पिता, छोटे छोटे बच्चो के होने बाद भी कोराना से पूरा प्रिकाशन लेते हुए प्रत्येक पीडित मरीज के उपचार एवं अपनी निस्वार्थ सेवायें देने में कोई कमी नही रखी है। हम गोरवान्वित है कि ऐसे संक्रमणकाल में भी डाक्टरों ने अपने कर्तव्य को मुश्तैदी से निभाया और कोराना महामारी पर नियंत्रण की दिशा में अपने कर्तव्यों का संपादन किया ।

रोटरी क्लब थांदला के अध्यक्ष कमलेश जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि पीडित मानवता के लिये रोटरी क्लब द्वारा मानव सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया जा रहा है । उन्होने बताया कि 1 जुलाई डाक्टर्स दिवस के अवसर पर क्लब द्वारा 21 डाक्टरों का सम्मान किया गया । क्लब के सचिव उमेश गुर्जर, भारत मिस्त्री, एवं रोटरी के असिस्टेंट गवर्नर के अनुसार समाज मे किसी भी जरूरत मंद को संजीवनी रोटरी क्लब थांदला के माध्यम से यथा संभव अधिक से अधिक मदद करना ही मुख्य ध्येय है । कोरोना काल में अपनी जान पर खेल कर इन डाक्टरों द्वारा लोगो को जीवनदान देने में अपनी सेवाओं के माध्यम से भगवान के तुल्य अपनी भूमिका का निर्वाह किया है । इस अवसर पर क्लब के रो. भरत मिस्त्री ने कहा कि हास्पीटल में किसी भी प्रकार की कमी हो या जरूरत हो तो रोटरी क्लब संजीवनी थांदला हमेशा पूर्ति करने के लिये तेैयार रहेगा । इस अवसर पर लायंस क्लब के अध्यक्ष सचिव के अलावा श्री चौहान जी उपस्थित रहे । नगर के गणमान्य नागरिक अनिल भंसाली, के अलावा गणमान्य पत्रकारो एवं बडी संख्या में प्रबुद्धजनों एवं नागरिकों की उपस्थिति में चिकित्सालय के 21 डॉक्टरों का सम्मान किया गया तथा उन्हे बधाईया दी गई।

कार्यक्रम का संचालन रो. एवं वरिष्ठ पत्रकार चवन नाहर ने करते हुए डाक्टरों के सम्मान समारोह को अनुकरणीय बताते हुए डाक्टरों की समाज के प्रति सेवा भावना की प्रसंशा की । कार्यक्रम के अन्त में आभार प्रदर्शन क्लब के सचिव रो. उमेश गुर्जर ने व्यक्त किया । इस सम्मान से अविभूत होकर अस्पताल के डाक्टरों ने भी रोटरी क्लब संजीवनी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए मानव सेवा के क्षेत्र में किये जारहे कार्यो की भूरी-भूरी प्रसंशा की ।



रहें हर खबर से अपडेट झाबुआ न्यूज़ के साथ