झाबुआ में जलप्रदाय व्यवस्था की अनियमितता को लेकर वार्ड क्र. 5 के पूर्व पार्षद नरेन्द्र संघवी ने आपत्ति जाहिर की

मप्र शासन की महत्वाकांक्षी नल-जल योजना अंतर्गत शहर में प्रांची इंटरप्राजईजेस द्वारा घटिया एवं गुणवत्ताविहीन कार्य करने का लगाया आरोप .

नगरपालिका के नव-निर्वाचित अध्यक्ष-उपाध्यक्ष एवं जिला प्रशासन से व्यवस्था में सुधार की मांग रखी 

झाबुआ। शहर की अनियमित जलप्रदाय व्यवस्था को लेकर समय-समय पर नागरिकों में आक्रोष बना रहता है। जिसका कारण जलप्रदाय का जिम्मा कभी नगरपालिका तो कभी पीएचई विभाग के हिस्से में आने से दोनो ही विभाग उक्त व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने में अब तक नाकाम ही साबित हुए है। शहरवासियों की अक्सर यह समस्या बनी रहती है कि वाडों और काॅलोनी-गली मौहल्लों में ना तो नियमित एवं निर्धारित समय पर जलप्रदाय होता है और जलप्रदाय के समय फोर्स कम रहने या अचानक से बिजली चले जाने से जलप्रदाय भी बंद हो जाता है। जिसको लेकर जनमानस में समय-समय पर विरोध के स्वर बुलंद होते रहे है। 

Jhabua News-  झाबुआ में जलप्रदाय व्यवस्था की अनियमितता को लेकर वार्ड क्र. 5 के पूर्व पार्षद नरेन्द्र संघवी ने आपत्ति जाहिर की

इसी क्रम में शहर के वार्ड क्र. 5 के पूर्व पार्षद एवं जागरूक नागरिक नरेन्द्र संघवी ने भी इस मामले में अपनी नाराजगी जाहिर की है। पूर्व पार्षद श्री संघवी ने बताया कि उन्होंने अपने पिछले 5 साल के कार्यकाल में वार्ड में समय-समय पर रहवासियों की सभी मांगों और समस्याओं को बुलंद करने के साथ मुख्य रूप से नियमित एवं निर्धारित समय पर जलप्रदाय किए जाने की मांग नगरपालिका के तत्कालीन सीएमओ से लेकर सब-इंजिनियर एवं पीएचई विभाग के अधिकारियों को भी कर रहवासियों की समस्याओं के निराकरण के लिए तत्पर रहे है। पूर्व पार्षद श्री संघवी के अनुसार यह समस्या ना केवल एक वार्ड की होकर पूरे शहर की है।

दोनो ही विभाग करते है टाल-मटोल

वर्तमान में शहर की जल प्रदाय व्यवस्था नगरपालिका एवं पीएचई विभाग में आधी-आधी बंटी हुई है और यह साफ दिखाई पड़ता है कि दोनो ही विभाग इस व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित करने में अब तक पूरी तरह नाकाम ही रहे है। शहरवासियों द्वारा किसी भी काॅलोनी या गली-मौहल्ले में जलप्रदाय नियमित या समय पर नहीं होने की षिकायत से जब नगरपालिका के अधिकरियों से संपर्क किया जाता है, तो वह पीएचई पर टालमटोल कर देते है वहीं पीएचई विभाग के अधिकारियों से संपर्क करने पर उनके द्वारा साफ तौर पर कह दिया जाता है कि यह व्यवस्था या कार्य उनका नहीं है। 

जिला प्रशासन को किसी भी एक विभाग को करना चाहिए पूर्णतः हैंडओवर 

पूर्व पार्षद श्री संघवी ने अपने सुझाव में कहा कि जिलाधीश महोदया को इस मामले में संज्ञान में लेकर दोनो में से किसी भी एक विभाग को यह व्यवस्था पूरी तरह सौंप दिया जाना चाहिए और संबंधित विभाग फिर इस व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित कर सके, ताकि शहरवासियों को बाहर मासी जलसंकट की समस्या से निजात मिल सके। मिली जानकारी के अनुसार शहर से सटे अनादी नदी के फिल्टर प्लांट, धमोई सिंचाई तालाब एवं धरमपुरी डेम के माध्यम से जलप्रदाय करने वाले नगरपालिका एवं पीएचई विभाग के कर्मचारियों को समय पर मासिक वेतनमान नहीं मिलने से कई बार वह भी कार्य करने में असमक्ष साबित होते है।

नल-जल योजना में प्रांची इंटरप्राईजेस ने किया घटिया कार्य

पूर्व पार्षद नरेन्द्र संघवी ने आरोप लगाते हुए कहा कि मप्र शासन की महत्वाकांक्षी नल-जल योजना के तहत पिछले कुछ वर्षों पूर्व तत्कालीन नगरपालिका परिषद् के माध्यम से जो शहर में पाईप लाईन का जाल बिछाया गया, उसमें कार्य करने वाली मुख्य फर्म प्रांची इंटरप्राईजेस इंदौर द्वारा घटिया एवं गुणवत्ताविहीन कार्य किया गया है। एक ओर जहां पाईप अच्छी क्वालिटी के नहीं लगाए गए वहंी कार्य में भी काफी अनियमितता बरती गई। इस दौरान नगरपालिका के सब-इंजिनियर एवं अन्य अधिकारियों द्वारा भी लापरवाही बरती गई। सड़क की खुदाई कर पाईप लाईन को अधिक गहराई में भी नहीं डाला गया। 

जगह-जगह से फूट जाती है पाईप लाईन

जिसका खामियाजा आज शहर की जनता लगातार भुगतने को विवष हो रहीं है। अक्सर कभी राजवाड़ा पर तो कभी नेहरू मार्ग रामकुल्ला नाले की पुलिया के समीप, कभी गैल तिराहे के समीप तो हाल ही में राजगढ़ नाका पर भी पाईप लाईन फूटने से हजारों गैलन पानी सड़कों पर व्यर्थ बह गया था। जिसे वर्तमान नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती कविता सिंगार एवं उपाध्यक्ष लाखनसिंह सोलंकी के विशेष प्रयासों से तत्काल ही संज्ञान में लेते हुए फूटी पाईप लाईन को दुरस्त करवाकर भराव कार्य करवाया गया। 

जिला प्रशासन एवं वर्तमान नपा जनप्रतिनिधि दे ध्यान 

पार्षद श्री संघवी ने जिलाधीश श्रीमती रजनी सिंह एवं नगरपालिका के वर्तमान जनप्रतिनिधि अध्यक्ष श्रीमती कविता सिंगार एवं उपाध्यक्ष लाखनसिंह सोलंकी से मांग करते हुए कहा कि वह इस मामले में संज्ञान में लेते हुए शहर की जलप्रदाय व्यवस्था को सुचारू करवाएं, ताकि शहरवासियों को बारह मासी पानी की समस्या से निजात मिल सके।

इनका कहना है 

- आपके द्वारा मुझे इस मामले से अवगत करवाया गया है। नगरपालिका एवं पीएचई विभाग के सामंजस्य से शहर की जलप्रदाय व्यवस्था को सुचारू करने के प्रयास किए जाएंगे।

श्रीमती रजनी सिंह, कलेक्टर, झाबुआ

- नगरपालिका अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं मैं स्वयं भी शहर की जलप्रदाय व्यवस्था को सुचारू करने के लिए सत्तत लगे हुए है। जल्द ही सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे।

शैलेष बिट्टू सिंगार, जिला संयोजक, भाजपा खेल प्रकोष्ठ झाबुआ

- प्रांची इंटरप्राईजेस इंदौर द्वारा नल-जल योजना में घटिया कार्य या अनियमितता की शिकायत हमे भी प्राप्त हुई है। पहले शहर में जहां नल-जल योजना का कार्य शेष रह गया है, उसे पूरा करवाया जा रहा है। इस संबंध में नपा अध्यक्ष एवं मेरे द्वारा जिलाधीश श्रीमती सिंह मेड़म से भी चर्चा कर समन्वय से हल निकालने हेतु चर्चा की जा चुकी है। जल्द ही इस समस्या का समाधान हो सकेगा।

लाखनसिंह सोलंकी, उपाध्यक्ष, नगरपालिका परिषद् झाबुआ

रहें हर खबर से अपडेट झाबुआ न्यूज़ के साथ